Occult

Bhaktamar Stotra: A Jain Hymn of Gratitude and Praise

The Bhaktamar Stotra is a beautiful and revered Hymn from Jainism that expresses gratitude and worship to the godly feminine goddess, Bhaktamar Devi. This Bhaktamar Stotra originated from Acharya Hemachandra, a famous Jain poet and scholar of the 12th century.

The Bhaktamar Stotra consists of 31 verses. Each one extolled the powers and virtues of Bhaktambar Devi. The Stotra starts with a prayer for Bhamtambar Devi, requesting her blessings and protection. The verses discuss her qualities, like kindness, wisdom, and beauty.

One of the main concepts of Bhaktamar Stotra concerns the notion that non-violence is a virtue (ahimsa) and is the most fundamental tenet of Jainism.

The Bhaktamar Stotra stresses the importance of being ahimsa-aware in every aspect of our lives, including thoughts, words and actions.

A further important feature in the Bhaktamar Stotra is the focus on the process of self-purification as well as spiritual transformation. It encourages followers to examine themselves and strive to achieve inner purity and freedom from all attachments to the world.

The Bhaktamar Stotra is not only a praise song, it is a motivation and direction for Jains. The song reminds the devotees of the way to spiritual freedom and inspires the practice of qualities like empathy, forgiveness, and non-violence.

The Bhaktamar Stotras are recited Jain ceremonies of religious significance, such as festivals and worship. Many Jains repeat the Bhaktamar Strota daily as the Strotas possess healing and protective powers.

Bhaktamar Stotra Vastu Vidhi

Bhaktamar Stotra Connection to Vastu Shastra

Vastu Shastra, an old Indian study of the science of architecture and designing is grounded in the philosophies of harmony among nature, the built environment and humans. The belief is that the proper space and alignment in living spaces will bring good health, wealth and wealth.

Practical Application of Bhaktamar Stotra in Vastu

A person living in a home might sing the Bhaktamar Stotra regularly, particularly during Vastu Puja (a ceremony performed to honor and activate Vastu principles inside a structure).

This way ensures that the spiritual advantages of the stotra enhance the benefits of adhering to Vastu’s Shastra. The result is an environment that is well-balanced, productive and harmonious.

The Bhaktamar Stotra with the Vastu Shastra have a lot in common with the pursuit of creating an environment to promote well-being holistically. Vastu creates the architectural and spatial structure while the Bhaktamar Stotra enriches the environment with spirituality and makes the two practices mutually strengthen for a well-balanced and prosperous lifestyle.

Acharya Shri Maatunga ji

How to Perform Bhaktamar Stotra Prayog to Nullify Vastu Dosh as per Jainism

  1. Make a plank of bajot wood set it on a white yoga and place a Kalash in the center of the swastika. ( a kalash with a coconut filled with water).
  2. Then draw the Swastika pattern using a pencil or pen ( as illustrated in the picture )
  3. After reciting Navkaar Mantra 108 and doing Guru Smaran, make Ghee Dia for 48 hours. Ghee Dia
  4. The 48 Diya must be created from wheat flour since they are made of five elements.
  5. Then ignite one Ghee Diya and recite the first Sloka from Bhaktamar Stotra and arrange it in the order as shown in the swastika patterns.
  6. One by one, place every Diya together with the appropriate Bhaktamar Stotra.

When reciting the sloka and at the conclusion, the person should say: Deep Prajwalan Karomi. One can also recite the Riddhi Mantra as there are 48 Riddhi mantras for every sloka.

For example :

भक्तामर-प्रणत-मौलि-मणि-प्रभाणा- मुघोतकं दलित-पाप-तमो-वितानम्। सम्यक्-प्रणम्य जिन-पाद-युगं  युगादा-वालम्बनं भव-जले पततां जनानाम् ||1||  दीप प्रज्वलन करोमि।

Now, let move toward Shri Bhaktamar Stotra with its deeper meaning in Hindi

भक्तामर-प्रणत-मौलि-मणि-प्रभाणा-मुघोतकं दलित-पाप-तमो-वितानम्।

सम्यक्-प्रणम्य जिन-पाद-युगं  युगादा-वालम्बनं भव-जले पततां   जनानाम् ||1||

यः संस्तुतः सकल-वाड्मय-तत्व-बोधा-दुद् भूत-बुद्धि-पटुभिः सुर-लोक-नाथेः |

स्तोत्रैर्जगत् त्रितय-चित-हरैरुदारेःस्तोष्ये किलाहमपि तं प्रथमं जिनेन्द्रनम् ||2||

 

बुद्धया विनापि विबुधार्चित-पाद-पीठ स्तोतुं समुधत-मतिर्विगत-त्रपोऽहम् |

बालं विहाय जल-संस्थितमिन्दु-विम्ब-मन्यः क इच्छति जनः सहसा ग्रहितुम् ||3||

 

वक्तुं गुणान्गुण-समुद्र शशाड्क-कान्तान् कस्ते क्षमः सुर-गुरु-प्रतिमोऽपि बुद्धया|

कल्पान्त-काल-पवनोद्ध-नक्र-चक्रं को वा तरीतुमलमम्बुनिधिं भुजाभ्याम् ||4|| 

 

 सोऽहं तथापि तव भक्ति-वशान्मुनीश कतुं स्तवं विगत-शक्तिरपि प्रवृत्तः|

प्रीत्यात्मवीर्यमविचार्य मृगो मृगेन्द्रं नाभ्येति किं निज-शिशोः परिपालनार्थम् ||5||

 

अल्प-श्रुतं श्रुतंवतां परिहास-धाम त्वद् भक्तिरेव मुखरीकुरुते बलान्माम् |

यत्कोकिलः किल मधौ मधुरं विरौति तच्चाम्र-चारु-कलिका-निकरैक-हेतुः||6||

 

त्वत्संस्तवेन भव-सन्तति-सन्निबद्धं पापं क्षणात्क्षयमुपैति शरीरभाजाम् |

आक्रान्त-लोकमति-नीलमशेषमाशु सूर्याशु-भिन्नमिव शार्वरमन्धकारम् ||7||

 

मत्वेति नाथ तव संस्तवनं मयेद- मारभ्यते तनु-धियापि तव प्रभावात् |

चेतो हरिष्यति सतां नलिनी-दलेषु मुक्ता-फलधुतिमुपैति ननूद-बिन्दुः ||8|| 


आस्तां तव स्तवनमस्त-समस्त-दोषं
त्वत्सड्कतथाऽपि जगतां दुरितानि हन्ति|

दूरे सहस्र किरणः कुरुते प्रभैव पध्माकरेषु जलजानि विकासभाज्जि||9||

नात्यद् भुतं भुवन-भूषण भूत-नाथ! भूतैर्गुणैर्भुवि भवन्तमभिष्टुवन्तः|

तुल्या भवन्ति भवतो ननु तेन किं वा भूत्याश्रितं य इह नात्मसमं करोति||10||

Bhaktamar Stotra Vastu Vidhi

द्रष्ट् वा भवन्तमनिमेष-विलोकनीयं नान्यत्र तोषमुपयाति जनस्य चक्षुः|

पीत्वा पयः शशिकर-द्युति-दुग्ध-सिन्धोः क्षारं जलं जल-निधे रसितुं कः इच्छेत् ||11||

यैः शान्त-राग-रुचिभिः परमाणुभिस्त्व् निर्मापितस्त्रिभुवनैक-ललाम-भूत|

तावन्त एव खलु तेऽप्यणवः पृथिव्यां यत्ते समानमपरं न हि रुपमस्ति|12|                

 

वक्त्रं क्व ते सुर-नरोरग-नेत्र-हारि निःशेष-निर्जित-जगत्त्रितयोपमानम्|

बिम्बं कलंक-मलिनं क्व निशाकरस्य यद्वासरे भवति पाण्डु-पलाशकल्पम्|13|

सम्पूर्ण-मण्डल-शशांक-कला-कलाप- शुभ्रा गुणास्त्रिभुवनं तव लगंघयन्ति|

ये संश्रितास्त्रिजगदीश्वर-नाथमेकं कस्तान्निवारयति संचरतो यथेष्टम्|14|

 

चित्रं किमत्र यदि ते त्रिदशागंगनाभि- र्नीतं मनागपि मनो न विकार-मार्गम्|

कल्पान्त-काल-मरुता चलिताचलेन किं मन्दराद्रि-शिखरं चलितं कदाचित्|15|

 

निर्धूम-वर्तिरपवर्जित-तैल-पूरः क्रत्स्नं जगत्त्रयमिदं प्रकटी-करोषि|

गम्यो न जातु मरुतां चलिताचलानां दीपोऽपरस्त्वमसि नाथ जगत्प्रकाशः|16|

नास्तं कदाचिदुपयासि न राहु-गम्यः स्पष्टीकरोषि सहसा युगपज्जगन्ति|

नाम्भोधरोदर निरुद्ध-महा-प्रभावः सूर्यातिशायि-महिमासि मुनीन्द्र! लोके|17|

 

नित्योदयं दलित-मोह-महान्धकारं गम्यं न राहु-वदनस्य न वारिदानाम्|

विभ्राजते तव मुखाब्जमनल्पकान्ति विद्योतयज्जगदपूर्व-शशांक-बिम्बम्|18|

किं शर्वरीषु शशिनाऽह्रि विवस्वता वा युष्मन्मुखेन्दु-दलितेषु तमःसु नाथ|

निष्पन्न-शालि-वन-शालिनि जीव-लोके कार्यं कियज्जलधरैर्जल-भार-नम्रैः|19|

 

ज्ञानं यथा त्वयि विभाति कृतावकाशं नैवं तथा हरिहरादिषु नायकेषु |

तेजः स्फुरन्मणिषु याति यथा महत्वं नैवं तु काच-शकले किरणाकुलेऽपि|20|

 

मन्ये वरं हरिहरादय एव दृष्टा दृष्टेषु येषु ह्रदयं त्मयि तोषमेति|

किं वीक्षितेन भवता भुवि येन नान्यः कश्चिन्मनो हरित नाथ!भवान्तरेऽपि|21|

स्त्रीणां शतानि शतशो जनयन्ति पुत्रान् नान्या सुतं त्वदुपमं जननी प्रसूता|

सर्वा दिशो दधति भानि सहस्र-रश्मिं प्राच्येव दिग्जनयति स्फुरदंशुजालम्|22|

त्वामामनन्ति मुनयः परमं पुमांस- मादित्य-वर्णममलं तमसः पुरस्तात्|

त्वामेव सम्यगुपलभ्य जयन्ति मृत्युं नान्यः शिव: शिवपदस्य मुनीन्द्र पन्थाः |23|

त्वामव्ययं विभुमचिन्त्यमसंख्यामाद्यं ब्रह्माणमीश्वरमनन्तमनगंकेतुम्|

योगीश्वरं विदितयोगनेकमेकं ज्ञानस्वरुपममलं प्रवदन्ति सन्तः|24|

बुद्घस्त्वमेव विबुधार्चित-बुध्दि-बोधात् त्वं शकंरोऽसि भुवन-त्रय-शकंरत्वात्|

धातासि धीर! शिव-मार्ग-विधेर्विधानात् व्यक्तं त्वमेव भगवन्तुरुषोत्तमोऽसि |25|

तुभ्यं नमस्त्रिभुवनार्तिहराय नाथ! तुभ्यं नमः क्षितितलामलभूषणाय|

तुभ्यं नमस्त्रिजगतः परमेश्वराय तुभ्यं नमो जिन! भवोदधि-शोषणाय|26|

 

को विस्मयोऽत्र यदि नाम गुणैरशेषै- स्त्वं संश्रितो निरवकाशतया मुनीश|

दोषैरुपात्तविविधाशश्रय-जात-गर्वैः स्वप्नान्तरेऽपि न कदाचिदपीक्षितोऽसि|27|


उच्चैरशोक-तरु-संश्रितमुन्मयूख- माभाति रुपममलं भवतो नितान्तम्|

स्पष्टोल्लसत्किरणमस्त-तमो-वितानं बिम्बं रवेरिव पयोधर-पाश्र्र्ववर्ति |28|


सिंहासने मणि-मयूख-शिखा-विचित्रे विभ्राजते तव वपुः कनकावदातम्|

बिम्बं वियद् विलसदंशुलता-वितानं तुगोंदयाद्रिशिरसीव सहस्र-रश्मेः |29|

कुन्दावदात-चल-चामर-चारु-शोभं विभ्राजते तव वपुः कलधोत-कान्तम्|

उद्यच्छशागं-शुचि-निर्झर-वारि-धार मुच्चैस्तटं सुरगिरेरिव शांतकोम्भम्|30|

छत्र-त्रयं तव विभाति शशागं-कान्त- मुच्चैः स्थितं स्थगित-भानु-कर-प्रतापम्|

मुक्ता-फल-प्रकर-जाल-विवृद्घशोभं प्रख्यापयत्त्रिजगतः परमेश्वरत्वम् |31|
 

गम्भीर-तार-रव-पूरित-दिग्विभाग- स्त्रैलोक्य-लोक-शुभ-सगंमभूतिदक्षः|

सद्धर्मराज जय-घोषण-घोषकः सन् खे दुन्दुभिध्र्वनति ते यशसः प्रवादी|32|

मन्दार-सुन्दर-नमेरु-सुपारिजात- सन्तानकदि-कुसुमोत्कर-वृष्टिरुद्धा|

गन्धोद-बिन्दु-शुभ-मन्द-मरुत्प्रपाता दिव्या दिवः पतति ते वचसां ततिर्वा|33|
 

शुम्भत्प्रभा-वलय-भूरि-विभा विभोस्ते लोकत्रये द्युतिमतां द्युतिमाक्षिपन्ति|

प्रोद्यद्दिवाकर-निरन्तर-भूरि-संख्या दीप्त्या जयत्यपि निशामपि सोम-सौम्याम्|34|

स्वर्गापवर्ग-गम-मार्ग-विमार्गणेष्टः सद्धर्म-तत्व-कथनैक-पटुस्त्रिलोक्याः|

दिव्यःध्वनिर्भवति ते विशदार्थ-सर्व भाषा-स्वभाव-परिणाम-गुणैःप्रायोज्यः|35|

उन्निद्र-हेम-नव-पंकज-पुञ्ज-कान्ती पर्युल्लसन्नख-मयूख-शिखाभिरामौ|

पादौ पदानि तव यत्र जिनेन्द्र! धत्तः पद्मानि तत्र विबुधाः परिकल्पयन्ति|36|

 

इत्थं यथा तव विभूतिरभूज्जिनेन्द्र धर्मोपदेशन-विधौ-न तथा परस्य|

यादृक्प्रभा दिनकृतः प्रहतान्धकारा तादृक्कुतो ग्रह-गणस्य विकाशिनोऽपि|37|

शच्योतन्मदाविल-विलोल-कपोल-मूल- मत्त-भ्रमद्-भ्रमर-नाद-विवृद्ध-कोपम् |

एरावताभमिभमुद्धतमापतन्तं दृष्ट्वा भयं भवति नो भवदाश्रितानाम्|38|


भिन्नेभ-कुम्भ-गलदुज्ज्वल-शोणिताक्त-
मुक्ता-फल-प्रकर-भूषित-भूमि-भागः|

बद्ध-क्रमः क्रम-गतं हरिणाधिऽपोपि नाक्रामति क्रम-युगाचल-संश्रितं ते|39|

कल्पान्त-काल-पवनोद्धत-वह्रि-कल्पं दावानलं ज्वलितमुज्ज्वमुत्स्फुलिगंम्|

विश्व जिघित्सुमिव संमुखमापतन्तं त्वन्नाम-कीर्तन-जलं शमयत्यशेषम्|40|    


रक्तेक्षणं समद-कोकिल-कण्ठ-नीलं
क्रोधोद्धतं फणिनमुत्फणमापतन्तम्|

आक्रामति क्रम-युगेण निरस्त-शखं- स्त्वन्नाम-नाग-दमनी ह्रदि यस्य पुंसः|41|

 
Bhaktamar Stotra Vastu Vidhi

वल्गत्तुरंग-गज-गर्जित-भीमनाद- माजौ बलं बलवतामपि भूपतीनाम्|

उद्यद्दिवाकर-मयूख-शिखापविद्धं त्वत्कीर्तनात्तम इवाशु भिदामुपैति|42|

कुन्ताग्र-भिन्न-गज-शोणित-वारिवाह- वेगावतार – तरणातुर – योध – भीमे|

युद्धे जयं विजित-दुर्जय-जेय-पक्षास्- त्वत्पाद-पंकज-वनाश्रयिणो लभन्ते |43|

अम्भोनिधौक्षुभित-भीषण-नक्र-चक्र- पाठीन-पीठ-भय-दोल्वण-वाडवाग्नौ|

रंगतरंग-शिखर-स्थित-यान-पात्रास्- त्रासं विहाय भवतः स्मरणाद् व्रजन्ति |44|

उद् भूत-भीषण-जलोदर-भार-भुग्नाः शोच्यां दशामुपगताश्च्युत-जीविताशाः|

त्वत्पाद-पंकज-रजोऽमृत-दिग्ध-देहा मर्त्या भवन्ति मकरध्वज-तुल्यरुपाः|45|

आपाद-कण्ठमुरु-श्रंखल-वेष्टितागंगा गाढं बृहन्निगड-कोटि-निधृष्ट-जंगघाः|

त्वन्नाम-मन्त्रमनिशं मनुजाः स्मरन्तः सद्यः स्वयं विगत-बन्ध-भया भवन्ति|46|

मत्तद्विपेन्द्र-म्रगराज-दवानलाहि- संग्राम वारिधि-मनोदर-बन्धनोत्थम्|

तस्याशु नाशमुपयाति भयं भियेव यस्तावकं स्तवमिमं मतिमानधीते|47|


स्तोत्रस्रजं तव जिनेन्द्र गुणैर्निबद्धां
भक्त्या मया रुचिर-वर्ण-विचित्र-पुष्पाम् |

धत्ते जनो य इह कण्ठ-गतामजस्रंतं ‘मानतुंगमवशा’ समुपैति लक्ष्मीः|48|

 इति श्री मानत्तुंगाचार्य विरचित आदिनाथ स्तोत्रं समाप्तम्

Bhaktamar Stotra Vastu Vidhi

Deeper meaning of Shri Bhaktamar Stotra in Hindi

1. झुके हुए भक्त देवों के मुकुट जड़ित मणियों की प्रथा को प्रकाशित करने वाले, पाप रुपी अंधकार के समूह को नष्ट करने वाले, कर्मयुग के प्रारम्भ में संसार समुन्द्र में डूबते हुए प्राणियों के लिये आलम्बन भूत जिनेन्द्रदेव के चरण युगल को मन वचन कार्य से प्रणाम करके (मैं मुनि मानतुंग उनकी स्तुति करुँगा)| 

2. सम्पूर्णश्रुतज्ञान से उत्पन्न हुई बुद्धि की कुशलता से इन्द्रों के द्वारा तीन लोक के मन को हरने वाले, गंभीर स्तोत्रों के द्वारा जिनकी स्तुति की गई है उन आदिनाथ जिनेन्द्र की निश्चय ही मैं (मानतुंग) भी स्तुति करुँगा |

3. देवों के द्वारा पूजित हैं सिंहासन जिनका, ऐसे हे जिनेन्द्र मैं बुद्धि रहित होते हुए भी निर्लज्ज होकर स्तुति करने के लिये तत्पर हुआ हूँ क्योंकि जल में स्थित चन्द्रमा के प्रतिबिम्ब को बालक को छोड़कर दूसरा कौन मनुष्य सहसा पकड़ने की इच्छा करेगा? अर्थात् कोई नहीं |

4.हे गुणों के भंडार ! आपके चन्द्रमा के समान सुन्दर गुणों को कहने लिये बृहस्पति के सदृश भी कोई पुरुष समर्थ है? अर्थात् कोई नहीं | अथवा प्रलयकाल की वायु के द्वारा प्रचण्ड है मगरमच्छों का समूह जिसमें ऐसे समुद्र को भुजाओं के द्वारा तैरने के लिए कौन समर्थ है अर्थात् कोई नहीं |

5. हे मुनीश ! तथापि-शक्ति रहित होता हुआ भी, मैं- अल्पज्ञ, भक्तिवश, आपकी स्तुति करने को तैयार हुआ हूँ| हरिणि, अपनी शक्ति का विचार न कर, प्रीतिवश अपने शिशु की रक्षा के लिये, क्या सिंह के सामने नहीं जाती? (अर्थात जाती हैं|)

6. विद्वानों की हँसी के पात्र, मुझ अल्पज्ञानी को आपकी भक्ति ही बोलने को विवश करती हैं| बसन्त ऋतु में कोयल जो मधुर शब्द करती है उसमें निश्चय से आम्र कलिका ही एक मात्र कारण हैं |

7. आपकी स्तुति से, प्राणियों के, अनेक जन्मों में बाँधे गये पाप कर्म क्षण भर में नष्ट हो जाते हैं जैसे सम्पूर्ण लोक में व्याप्त रात्रि का अंधकार सूर्य की किरणों से क्षणभर में छिन्न -भिन्न हो जाता है |

8. हे स्वामिन् ! ऐसा मानकर मुझ मन्दबुद्धि के द्वारा भी आपकी यह स्तुति प्रारम्भ करता हूँ, जो आपके प्रभाव से सज्जनों के चित्त को हरेगा | निश्चय से पानी की बूँद कमलिनी के पत्तों पर मोती के समान शोभा को प्राप्त करती हैं|

9. सम्पूर्ण दोषों से रहित आपका स्तवन तो दूर, आपकी पवित्र कथा भी प्राणियों के पापों का नाश कर देती है| जैसे, सूर्य तो दूर, उसकी प्रभा ही सरोवर में कमलों को विकसित कर देती है|

10. हे जगत् के भूषण ! हे प्राणियों के नाथ ! सत्यगुणों के द्वारा आपकी स्तुति करने वाले पुरुष पृथ्वी पर यदि आपके समान हो जाते हैं तो इसमें अधिक आश्चर्य नहीं है| क्योंकि उस स्वामी से क्या प्रयोजन, जो इस लोक में अपने अधीन पुरुष को सम्पत्ति के द्वारा अपने समान नहीं कर लेता |

11. हे अभिमेष दर्शनीय प्रभो ! आपके दर्शन के पश्चात् मनुष्यों के नेत्र अन्यत्र सन्तोष को प्राप्त नहीं होते| चन्द्रकीर्ति के समान निर्मल क्षीर-समुद्र के जल को पीकर कौन पुरुष समुद्र के खारे पानी को पीना चाहेगा? अर्थात् कोई नहीं |

12. हे त्रिभुवन के एकमात्र आभुषण जिनेन्द्रदेव! जिन रागरहित सुन्दर परमाणुओं के द्वारा आपकी रचना हुई वे परमाणु पृथ्वी पर निश्चय से उतने ही थे क्योंकि आपके समान दूसरा रूप नहीं है |

13. हे प्रभो! सम्पूर्ण रुप से तीनों जगत् की उपमाओं का विजेता, देव मनुष्य तथा धरणेन्द्र के नेत्रों को हरने वाला कहां आपका मुख? और कलंक से मलिन, चन्द्रमा का वह मण्डल कहां? जो दिन में पलाश (ढाक) के पत्ते के समान फीका पड़ जाता |

14. पूर्ण चन्द्र की कलाओं के समान उज्ज्वल आपके गुण, तीनों लोको में व्याप्त हैं क्योंकि जो अद्वितीय त्रिजगत् के भी नाथ के आश्रित हैं उन्हें इच्छानुसार घुमते हुए कौन रोक सकता हैं? कोई नहीं |

15. यदि आपका मन देवागंनाओं के द्वारा किंचित् भी विकृति को प्राप्त नहीं कराया जा सका, तो इस विषय में आश्चर्य ही क्या है? पर्वतों को हिला देने वाली प्रलयकाल की पवन के द्वारा क्या कभी मेरु का शिखर हिल सका है? नहीं |


Bhaktamar Stotra Vastu Vidhi
16. हे स्वामिन्! आप धूम तथा बाती से रहित, तेल के प्रवाह के बिना भी इस सम्पूर्ण लोक को प्रकट करने वाले अपूर्व जगत् प्रकाशक दीपक हैं जिसे पर्वतों को हिला देने वाली वायु भी कभी बुझा नहीं सकती |

17. हे मुनीन्द्र! आप न तो कभी अस्त होते हैं न ही राहु के द्वारा ग्रसे जाते हैं और न आपका महान तेज मेघ से तिरोहित होता है आप एक साथ तीनों लोकों को शीघ्र ही प्रकाशित कर देते हैं अतः आप सूर्य से भी अधिक महिमावन्त हैं |

18. हमेशा उदित रहने वाला, मोहरुपी अंधकार को नष्ट करने वाला जिसे न तो राहु ग्रस सकता है, न ही मेघ आच्छादित कर सकते हैं, अत्यधिक कान्तिमान, जगत को प्रकाशित करने वाला आपका मुख-कमल रुप अपूर्व चन्द्रमण्डल शोभित होता है |

19. हे स्वामिन्! जब अंधकार आपके मुख रुपी चन्द्रमा के द्वारा नष्ट हो जाता है तो रात्रि में चन्द्रमा से एवं दिन में सूर्य से क्या प्रयोजन? पके हुए धान्य के खेतों से शोभायमान धरती तल पर पानी के भार से झुके हुए मेघों से फिर क्या प्रयोजन |

20. अवकाश को प्राप्त ज्ञान जिस प्रकार आप में शोभित होता है वैसा विष्णु महेश आदि देवों में नहीं | कान्तिमान मणियों में, तेज जैसे महत्व को प्राप्त होता है वैसे किरणों से व्याप्त भी काँच के टुकड़े में नहीं होता |

21. हे स्वामिन्| देखे गये विष्णु महादेव ही मैं उत्तम मानता हूँ, जिन्हें देख लेने पर मन आपमें सन्तोष को प्राप्त करता है| किन्तु आपको देखने से क्या लाभ? जिससे कि प्रथ्वी पर कोई दूसरा देव जन्मान्तर में भी चित्त को नहीं हर पाता |

22. सैकड़ों स्त्रियाँ सैकड़ों पुत्रों को जन्म देती हैं, परन्तु आप जैसे पुत्र को दूसरी माँ उत्पन्न नहीं कर सकी| नक्षत्रों को सभी दिशायें धारण करती हैं परन्तु कान्तिमान् किरण समूह से युक्त सूर्य को पूर्व दिशा ही जन्म देती हैं |

23. हे मुनीन्द्र! तपस्वी जन आपको सूर्य की तरह तेजस्वी निर्मल और मोहान्धकार से परे रहने वाले परम पुरुष मानते हैं | वे आपको ही अच्छी तरह से प्राप्त कर म्रत्यु को जीतते हैं | इसके सिवाय मोक्षपद का दूसरा अच्छा रास्ता नहीं है |

24. सज्जन पुरुष आपको शाश्वत, विभु, अचिन्त्य, असंख्य, आद्य, ब्रह्मा, ईश्वर, अनन्त, अनंगकेतु, योगीश्वर, विदितयोग, अनेक, एक ज्ञानस्वरुप और अमल कहते हैं |

25. देव अथवा विद्वानों के द्वारा पूजित ज्ञान वाले होने से आप ही बुद्ध हैं| तीनों लोकों में शान्ति करने के कारण आप ही शंकर हैं| हे धीर! मोक्षमार्ग की विधि के करने वाले होने से आप ही ब्रह्मा हैं| और हे स्वामिन्! आप ही स्पष्ट रुप से मनुष्यों में उत्तम अथवा नारायण हैं |

26. हे स्वामिन्! तीनों लोकों के दुःख को हरने वाले आपको नमस्कार हो, प्रथ्वीतल के निर्मल आभुषण स्वरुप आपको नमस्कार हो, तीनों जगत् के परमेश्वर आपको नमस्कार हो और संसार समुन्द्र को सुखा देने वाले आपको नमस्कार हो|

27. हे मुनीश! अन्यत्र स्थान न मिलने के कारण समस्त गुणों ने यदि आपका आश्रय लिया हो तो तथा अन्यत्र अनेक आधारों को प्राप्त होने से अहंकार को प्राप्त दोषों ने कभी स्वप्न में भी आपको न देखा हो तो इसमें क्या आश्चर्य? 

28. ऊँचे अशोक वृक्ष के नीचे स्थित, उन्नत किरणों वाला, आपका उज्ज्वल रुप जो स्पष्ट रुप से शोभायमान किरणों से युक्त है, अंधकार समूह के नाशक, मेघों के निकट स्थित सूर्य बिम्ब की तरह अत्यन्त शोभित होता है |

29. मणियों की किरण-ज्योति से सुशोभित सिंहासन पर, आपका सुवर्ण कि तरह उज्ज्वल शरीर, उदयाचल के उच्च शिखर पर आकाश में शोभित, किरण रुप लताओं के समूह वाले सूर्य मण्डल की तरह शोभायमान हो रहा है|

30. कुन्द के पुष्प के समान धवल चँवरों के द्वारा सुन्दर है शोभा जिसकी, ऐसा आपका स्वर्ण के समान सुन्दर शरीर, सुमेरुपर्वत, जिस पर चन्द्रमा के समान उज्ज्वल झरने के जल की धारा बह रही है, के स्वर्ण निर्मित ऊँचे तट की तरह शोभायमान हो रहा है|

31. चन्द्रमा के समान सुन्दर, सूर्य की किरणों के सन्ताप को रोकने वाले, तथा मोतियों के समूहों से बढ़ती हुई शोभा को धारण करने वाले, आपके ऊपर स्थित तीन छत्र, मानो आपके तीन लोक के स्वामित्व को प्रकट करते हुए शोभित हो रहे हैं|

32.गम्भीर और उच्च शब्द से दिशाओं को गुञ्जायमान करने वाला, तीन लोक के जीवों को शुभ विभूति प्राप्त कराने में समर्थ और समीचीन जैन धर्म के स्वामी की जय घोषणा करने वाला दुन्दुभि वाद्य आपके यश का गान करता हुआ आकाश में शब्द करता है|

 33. सुगंधित जल बिन्दुओं और मन्द सुगन्धित वायु के साथ गिरने वाले श्रेष्ठ मनोहर मन्दार, सुन्दर, नमेरु, पारिजात, सन्तानक आदि कल्पवृक्षों के पुष्पों की वर्षा आपके वचनों की पंक्तियों की तरह आकाश से होती है|

34. हे प्रभो ! तीनों लोकों के कान्तिमान पदार्थों की प्रभा को तिरस्कृत करती हुई आपके मनोहर भामण्डल की विशाल कान्ति एक साथ उगते हुए अनेक सूर्यों की कान्ति से युक्त होकर भी चन्द्रमा से शोभित रात्रि को भी जीत रही है|

35. आपकी दिव्यध्वनि स्वर्ग और मोक्षमार्ग की खोज में साधक, तीन लोक के जीवों को समीचीन धर्म का कथन करने में समर्थ, स्पष्ट अर्थ वाली, समस्त भाषाओं में परिवर्तित करने वाले स्वाभाविक गुण से सहित होती है|


Bhaktamar Stotra Vastu Vidhi


36. पुष्पित नव स्वर्ण कमलों के समान शोभायमान नखों की किरण प्रभा से सुन्दर आपके चरण जहाँ पड़ते हैं वहाँ देव गण स्वर्ण कमल रच देते हैं|

37. हे जिनेन्द्र! इस प्रकार धर्मोपदेश के कार्य में जैसा आपका ऐश्वर्य था वैसा अन्य किसी का नही हुआ| अंधकार को नष्ट करने वाली जैसी प्रभा सूर्य की होती है वैसी अन्य प्रकाशमान भी ग्रहों की कैसे हो सकती है?

38. आपके आश्रित मनुष्यों को, झरते हुए मद जल से जिसके गण्डस्थल मलीन, कलुषित तथा चंचल हो रहे है और उन पर उन्मत्त होकर मंडराते हुए काले रंग के भौरे अपने गुजंन से क्रोध बढा़ रहे हों ऐसे ऐरावत की तरह उद्दण्ड, सामने आते हुए हाथी को देखकर भी भय नहीं होता|

39. सिंह, जिसने हाथी का गण्डस्थल विदीर्ण कर, गिरते हुए उज्ज्वल तथा रक्तमिश्रित गजमुक्ताओं से पृथ्वी तल को विभूषित कर दिया है तथा जो छलांग मारने के लिये तैयार है वह भी अपने पैरों के पास आये हुए ऐसे पुरुष पर आक्रमण नहीं करता जिसने आपके चरण युगल रुप पर्वत का आश्रय ले रखा है|

40. आपके नाम यशोगानरुपी जल, प्रलयकाल की वायु से उद्धत, प्रचण्ड अग्नि के समान प्रज्वलित, उज्ज्वल चिनगारियों से युक्त, संसार को भक्षण करने की इच्छा रखने वाले की तरह सामने आती हुई वन की अग्नि को पूर्ण रुप से बुझा देता है|

41. जिस पुरुष के ह्रदय में नामरुपी-नागदौन नामक औषध मौजूद है, वह पुरुष लाल लाल आँखो वाले, मदयुक्त कोयल के कण्ठ की तरह काले, क्रोध से उद्धत और ऊपर को फण उठाये हुए, सामने आते हुए सर्प को निश्शंक होकर दोनों पैरो से लाँघ जाता है|

42. आपके यशोगान से युद्धक्षेत्र में उछलते हुए घोडे़ और हाथियों की गर्जना से उत्पन भयंकर कोलाहल से युक्त पराक्रमी राजाओं की भी सेना, उगते हुए सूर्य किरणों की शिखा से वेधे गये अंधकार की तरह शीघ्र ही नाश को प्राप्त हो जाती है|

43. हे भगवन् आपके चरण कमलरुप वन का सहारा लेने वाले पुरुष, भालों की नोकों से छेद गये हाथियों के रक्त रुप जल प्रवाह में पडे़ हुए, तथा उसे तैरने के लिये आतुर हुए योद्धाओं से भयानक युद्ध में, दुर्जय शत्रु पक्ष को भी जीत लेते हैं|

44. क्षोभ को प्राप्त भयंकर मगरमच्छों के समूह और मछलियों के द्वारा भयभीत करने वाले दावानल से युक्त समुद्र में विकराल लहरों के शिखर पर स्थित है जहाज जिनका, ऐसे मनुष्य, आपके स्मरण मात्र से भय छोड़कर पार हो जाते हैं|

45. उत्पन्न हुए भीषण जलोदर रोग के भार से झुके हुए, शोभनीय अवस्था को प्राप्त और नहीं रही है जीवन की आशा जिनके, ऐसे मनुष्य आपके चरण कमलों की रज रुप अम्रत से लिप्त शरीर होते हुए कामदेव के समान रुप वाले हो जाते हैं|

46. जिनका शरीर पैर से लेकर कण्ठ पर्यन्त बडी़-बडी़ सांकलों से जकडा़ हुआ है और विकट सघन बेड़ियों से जिनकी जंघायें अत्यन्त छिल गईं हैं ऐसे मनुष्य निरन्तर आपके नाममंत्र को स्मरण करते हुए शीघ्र ही बन्धन मुक्त हो जाते है|

47. जो बुद्धिमान मनुष्य आपके इस स्तवन को पढ़ता है उसका मत्त हाथी, सिंह, दवानल, युद्ध, समुद्र जलोदर रोग और बन्धन आदि से उत्पन्न भय मानो डरकर शीघ्र ही नाश को प्राप्त हो जाता है|

48. हे जिनेन्द्र देव! इस जगत् में जो लोग मेरे द्वारा भक्तिपूर्वक (ओज, प्रसाद, माधुर्य आदि) गुणों से रची गई नाना अक्षर रुप, रंग बिरंगे फूलों से युक्त आपकी स्तुति रुप माला को कंठाग्र करता है उस उन्नत सम्मान वाले पुरुष को अथवा आचार्य मानतुंग को स्वर्ग मोक्षादि की विभूति अवश्य प्राप्त होती है|

उपरोक्त भक्तामर स्तोत्र लिखने में या उसके अर्थ लिखने में व्याकरण/शब्द /अर्थ में कुछ गलती हुई हो तो, अनंत सिद्ध केवली भगवन की साक्षी से  “”तस्स मिच्छामी दुगडम “” …..

Love & Light,

Nirav Hiingu
Vedic Vastu Consultant

Products You May Like

Articles You May Like

Pavel Tsatsouline and Christopher Sommer (#748)
Beyond Fabric: Dive into the World of Energy Fashion
Unlock the Power of Yemaya With Rituals, Prayers, Offerings & More
Unlocking True Healing: An Interview with Jonalyn Greene on Overcoming Adversity and Embracing Holistic Wellness
4 Powerful Obatala Prayers for Money, Healing, Protection

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *