Occult

7 Greatest Vastu Shastra Tips for Home in Hindi

Importance of Window and Vastu Shastra Tips for Home

IN previous blog i have given enough Vastu Shastra Tips for Home and Office, But today i would like to Cover Window and Role of Windows in Vastu Shastra.

The sun god is the representative of the windows on the  right side in the house. The sun planet also represents the son’s child. If the windows on the right side of the house are weak or broken, then the male child will continue to suffer in that house. 

If there is a crack on the right side of the window and the right window of the house, that too will remain a problem for all the men living in that house because these cracks represent Rahu Ketu and Rahu Ketu is considered to be a strong enemy of Sun.

According to Vastu Shastra, windows are helpful in the prosperity and progress of the house. It should be installed in the east and north direction of the house. According to Vastu Shastra, it should be made at a distance of about 6 inches from the corner of the wall and not at all. 

The windows should be made in the opposite direction from each other and the door gets good ventilation in the air. 

If the window on the right side remains open in the kitchen, then all the men living in the family will be of angry nature because the window on the right side represents the Sun, Venus is the planet of kitchen and Mars is the factor of fire. 

The people living in such a house prove to be good companions of the wife.

If the window on the right side is open towards the warehouse, then in such a house the father and son become the staunch opponents of each other and along with this the son of the planet lord is only Tamoguna.

Vastu Shastra Tips for Left Side of Window

In Vastu Shastra, the part of the left window in the house is considered to be a symbol of the moon and that is why the moon is considered to be the form of a woman and the form of Divine Mother in astrology.

If the window on the left side of the house is good and the air and light are getting proper passage through it, then all the women living in such a house i.e. women and girls lead a happy and prosperous life.

If the house does not have a window on the left side, in such a house one person in family is definitely unemployed and lives by being dependent on the homeowner. Such a person always suffers from mental infirmity because Moon is said to be the form of mind and brain and the left end of the house is transmitted through bad energies of Ketu.

Cracks in Vastu Shastra and Vastu Shastra Tips for Home

If there are many cracks in front of the left window of the house, the women of such a house lead a moral life and always follow the truth.

If there are many cracks near the left window of the house and the left window opens near the store room i.e. the grain room, the women of such a house are always suffering from asthma and in such a house there is a bad effect of Moon and Saturn and Ketu.

If there is a dustbin in front of the left window in the house, the women of such a house are always sick and there are always obstacles in the marriage of their girl child.

If the window in the house is on either right side or whether it is on the left side but it is always in a closed state or in some kind of deformed condition or cracks have occurred, in the same way the prosperity in the house gradually ends and the house gets annihilated.

6 Vastu Shastra Tips for Window at Home

According to Vastu Shastra, windows should always be at a height of 75 to 100 cms. Excess windows and doors are not considered good in the house or in the office because doing so reduces the concentration of all the people living in that house.

Any kind of path or road should not come towards the window or its termination (ie the end of the road) should not come towards the window.

Any kind of sharp edged roof or any kind of corner should not be towards the window, if it happens, then anger always arises in such a house.

Any broken house or building or building should not be seen in front of the window, in such a condition, there is suffering accident or even  death in such a house.

During the rainy days, the rain water should not fall on the windows, that is why – a good visor should be made.

If a house or office is built keeping in mind the above-mentioned facts, then such a house or office leads to happiness and prosperity.

I hope my vastu shastra tips brings you prosperity in your home and office.

Regards,

Nirav Hingu

घर में  खिड़कियों की भूमिका Ghar me Khidaki Ki Bhumika Aur Vastu Shastra Tips in Hindi

मकान में डाई तरफ की खिड़कियों का प्रतिनिधि सूर्य भगवान करते हैं।  सूर्य ग्रहण पुत्र का संतान का प्रतिनिधि करता है।  यदि मकान के दाहिनी और खिड़कियां कमजोर हो या टूटी फूटी हो तो उस घर परिवार में पुरुष संतति को  कष्ट होता रहेगा ।  

खिड़की के दायिनी और  मकान के  दाहिने खिड़की पर दरारे छा गई हो, वह भी उस घर में रहने वाले सभी पुरुष पर संकट बना रहेगा क्योंकि यह दरारे राहु केतु का प्रतिनिधि करती है और राहु केतु सूर्य के प्रबल शत्रु माने गए हैं।

वास्तु शास्त्र के अनुसार खिड़कियां घर की खुशहाली और उन्नति में सहायक होती है । यह घर के  पूर्व दिशा और  और उत्तर दिशा में स्थापना होनी चाहिए।  वास्तु शास्त्र के अनुसार   दीवार के कॉर्नर से एकदम सती हुई ना होकर करीब 6 इंच की दूरी पर बनाई जानी चाहिए। 

खिड़कियां एक-दूसरे और दरवाजे से विपरीत दिशा में बनानी चाहिए हवा में वेंटिलेशन अच्छी हो पाता है । यदि दाहिने और की खिड़की रसोई में खुली रहती है तो परिवार में रहने वाले सभी पुरुष क्रोधी स्वाभाव के  होंगे  क्योंकि दाहिनी और की खिड़की सूर्य का प्रतिनिधि करता है,   शुक्र ग्रह रसोई और मंगल अग्नि का कारक होता है ।  ऐसे घर में रहने वाले लोग पत्नी के अच्छे सहयोगी सिद्ध होते हैं।

दाहिनी खिड़की वास्तु शास्त्र में Vastu Shastra Tips for Right Window

यदि  दाहिनी और की खिड़की गोदाम की तरफ खुली रहती है तो ऐसे घर में पिता पुत्र एक दूसरे के कट्टर विरोधी बन जाते हैं और इसके साथ ही ग्रह स्वामी का   पुत्र तमोगुण ही होता है।

वास्तु शास्त्र में घर में  बाई की खिड़की का  भाग चंद्रमा का प्रतीक माना गया है और इसीलिए चंद्रमा ज्योतिष के अंदर स्त्री का स्वरुप और जगत माता का रूप माना गया है।

यदि घर में बाई और वाली खिड़की   दुरुस्त है  और उसमें से हवा और प्रकाश को आने जाने का उचित मार्ग मिल रहा है तो ऐसे घर में रहने वाली सभी स्त्रियां अर्थात महिलाएं और  लड़कियां सुखी और संपन्न जीवन  व्यतीत करती है।

यदि घर में बाई और वाली खिड़की  ना हो ऐसे घर में एक व्यक्ति अवश्य ही बेरोजगार होता है और गृहस्वामी  के ऊपर आश्रित होकर जीवन यापन करता है।  ऐसा व्यक्ति हमेशा मानसिक दुर्बलता का शिकार होता है क्योंकि चंद्रमा मन और मस्तिष्क का रूप बताया गया है  और घर के बाई और का अंत उपग्रह केतु से प्रसारित होता है।

बाई खिड़की वास्तु शास्त्र में Left Windows and Vastu Shastra Tips for Home

यदि घर की बाई खिड़की के सामने बहुत सारी दरारें हो ऐसे घर की महिलाएं  नीति युक्त जीवन जीती है और सदा सत्य का पालन करती है।

यदि घर की बाई खिड़की के पास ही बहुत सारी  दरारें हो  और बाई  खिड़की  शोरूम अर्थात अनाज ग्रह के पास  खुलती हो  ऐसी घर की महिलाएं  हमेशा दमा  रोग से पीड़ित रहती हैं  और ऐसे घर में चंद्रमा और शनि और केतु का दुष्प्रभाव रहता है।

यदि घर में बाई खिड़की के सामने कूड़ा दान   रहता  हो , ऐसे घर की महिलाएं हमेशा बीमार रहती है  और उनकी लड़की की विवाह में हमेशा  बाधाएं आती रहती है। 

यदि घर में खिड़की चाहे दाहिनी और हो या चाहे बाहिने और हो  लेकिन  हमेशा बंद अवस्था में हो या कोई प्रकार के विकृत अवस्था में  या दरारें पड़ गई हो,  ऐसे ही घर में धीरे-धीरे समृद्धि समाप्त होती रहती है और घर का सत्यानाश हो जाता है।

कुछ महत्वपूर्ण तथ्य वास्तु की दृस्टि से Vastu Shastra Tips for Home

वास्तु शास्त्र के अनुसार  खिड़कियां हमेशा 75 से 100 सेंटीमीटर की ऊंचाई पर होनी चाहिए।  आवश्यकता से ज्यादा  खिड़कियां और दरवाजे  घर में या ऑफिस में  उत्तम नहीं माना गया  क्योंकि ऐसा करने से उस घर में रहने वाले सभी व्यक्ति  कर्मचारियों की एकाग्रता  में  कमी आती है।

किसी भी प्रकार का रास्ता या  सड़क खिड़की की ओर नहीं आनी चाहिए या उसका समाप्ति करण भी (अर्थांत सड़क की समाप्ति ) खिड़की की ओर नहीं आनी चाहिए नहीं होना चाहिए  यदि ऐसा होता है तो उस घर में हमेशा  कलेश बना रहता है ।

किसी भी प्रकार की तेज धार वाली  छत  या किसी प्रकार का कोना  खिड़की की और नहीं होना चाहिए   यदि होता है तो ऐसे घर में हमेशा क्रोध उत्पन्न होते रहता है।

कोई भी टूटी-फूटी मकान या बिल्डिंग या मसान  खिड़की के सामने नहीं दिखनी चाहिए ऐसी अवस्था हो तो ऐसे घर में मरण तुल्य  कष्ट होता है।

बारिश के दिनों में बारिश का पानी खिड़कियों पर ना गिरे इसीलिए – अच्छी तरह का छज्जा बना देना चाहिए ।

यदि ऊपर लिखे तथ्यों को ध्यान में रखकर घर या ऑफिस बनाया जाय तो ऐसा घर या ऑफिस  सुख और समृद्धि की ओर जाता है।

आपका अपना,

नीरव हिंगु 

Products You May Like

Articles You May Like

Invoke Lilith’s Favor: Beginner’s Guide to Lilith Prayers
Discover the Hidden Potential: Crystals & Sound for Wholeness
Unveiling the Power of Brainspotting With Jessica Baer
Oshun’s Gifts: How to Attract Love, Fertility, and Prosperity
Exploring the World of Numerology: An In-Depth Guide ( Types of Numerology )

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *